आचार संहिता में ही कर डाली 100 संविदाकर्मियों की नियुक्ति, भर्ती को निरस्त कराने को चुनाव आयोग को लिखा पत्र

आचार संहिता में ही कर डाली 100 संविदाकर्मियों की नियुक्ति, भर्ती को निरस्त कराने को चुनाव आयोग को लिखा पत्र

वाणिज्य कर विभाग में आचार संहिता को अनदेखा करके लगभग 100 चतुर्थ श्रेणी के रिक्त पदों पर संविदा कम्प्यूटर सहायकों की भर्ती कर दी गई। इस भर्ती को निरस्त कराने और जांच कराने के लिए उत्तर प्रदेशीय चतुर्थ श्रेणी राज्य कर्मचारी महासंघ ने चुनाव आयोग को पत्र लिखा है।

वाणिज्य कर विभाग में संविदा पर नियुक्ति का काम किंग्स सिक्योरिटी जनरल सर्विस के जिम्मे है। इस कंपनी ने आचार संहिता के लागू होने के बाद 16 जनवरी को लगभग 100 लोगों को कम्प्यूटर सहायकों के पद पर नियुक्त कर दिया। उत्तर प्रदेशीय चतुर्थ श्रेणी राज्य कर्मचारी महासंघ के प्रदेश महामंत्री सुरेश सिंह यादव ने बताया कि किंग्स सिक्योरिटी जनरल सर्विस की इस धांधली के खिलाफ चुनाव आयोग से लिखित शिकायत की गई है। उन्होंने कहा कि समूह घ से समूह ग में ली गई चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों की टंकण परीक्षा जो 25 नवम्बर 2016 को ली गई थी। उसका परिणाम आज तक घोषित नहीं किया गया। ऐसे में कंपनी को क्या जल्दबाजी थी कि आचार संहिता लगी होने के बावजूद नियुक्ति कर दी गईं।
कंपनी पर करोड़ों रुपये के धांधली का भी है आरोप
संविदा पर नियुक्ति करने वाली किंग्स सिक्योरिटी जनरल सर्विस पर कर्मियों को भुगतान में भी हेरफेर करने का आरोप है। संगठन के प्रांतीय महामंत्री सुरेश सिंह यादव ने बताया कि 635 संविदा कर्मियों के भुगतान के लिए छह हजार 131 रुपये प्रति संविदा कर्मी को भुगतान किया जाता है। जबकि विभाग कंपनी को सात हजार रुपये से ज्यादा का भुगतान कर रही है। इस कंपनी को संविदा कर्मियों के भुगतान के लिए जून से अक्टूबर 2016 तक दो करोड़ 75 लाख 67 हजार 177 रुपये दिए गए हैं।