तो अब वेलेंटाइन 14 फरवरी की जगह 22 फरवरी को होना ....देखते हैं 72825, याची, शिक्षामित्र, जूनियर मैटर में किसे मिलेगा लव लेटर

तो अब वेलेंटाइन 14 फरवरी की जगह 22 फरवरी को होना ....देखते हैं 72825, याची, शिक्षामित्र, जूनियर मैटर में किसे मिलेगा लव लेटर

देखा जाये तो टेटियन का वेलेंटाइन तो 14 फरबरी की जगह 22 फरबरी को होना ....

72825- इनकी शादी तो स्वम सुप्रीम कोर्ट के जज दीपक मिश्रा जी करा चुके हैं अब तो बच्चे भी हो चुके हैं पर विडंबना है अभी इसको लीगल टेंडर घोषित नहीं किया है 22 फरबरी को इसकी उम्मीद की जा सकती है ।


याची मैटर --


याची मैटर देखा जाये तो दीपक मिश्रा जी की उगाई हुई फसल है वैसे तो उनकी 1100 फसल को उगाने की इच्छा थी पर आंधी आने पर फसल के बीज फ़ैल गये तो अब ये संख्या 32000 के आसपास हो गई है वैसे इस फसल को नष्ट करने की पूरी कोशिश की गई पर दीपक मिश्रा जी की तरफ से खाद-पानी मिलने के कारण अब ये फसल पककर तैयार है अब देखना ये है कि दीपक मिश्रा जी अपनी इस फसल को सफल बनाते हैं या नस्ट करते हैं ....

शिक्षा मित्र मैटर---

शिक्षा मित्र को बेसिक की फसल ना कहकर "खतपरवार " कहा जाये तो ही अच्छा है ।

जब बेसिक की जमीन बंजर पड़ी थी जब इनको उगने की इजाजत दे दे गई थी जिससे बंजर जमीन और अधिक बंजर ना हो पर इस खतपरवार ने बेसिक में सपा के सपोर्ट से इतने बढ़ गये कि भले ही ये बेसिक को उपजाऊ ना बना पाएं हों पर सपा के कट्टर वोट बन गये ....

हाई कोर्ट तो शिक्षा मित्रों को बेसिक की खतपरवार घोषिस कर चुका है अब सुप्रीम कोर्ट को इस पर अपना फैसला करना है ।

जूनियर मैटर...

ये कुछ नियमों को इग्नोर कर जानबूझकर उगाई गई फसल है इसको खतपरवार नहीं कहा जा सकता है इसीलिए हटाना आसान नहीं है क्यों कि इसको उगाने में सरकार की गलती है बीज की नहीं ,पर जो बीज अब तक नियमों के अनुसार उगने की मांग कर रहे हैं उनको इग्नोर नहीं किया जा सकता हाई कोर्ट भी उनके साथ है

इसके अतिरिक्त वर्गीकरण फसल,12091 फसल के अतिरिक्त भी छोटी-मोटी फसल हैं ....

अब देखना ये है कि इतनी सारी फसलों को एक साथ देखकर दीपक मिश्रा जी किसी फसल को सफल बना पाते हैं या नहीं ।