सरकारी स्कूलों की अनदेखी वित्तविहीन को दी जिम्मेदारी, तीन वर्ष पहले मान्यता पाने वाले बने परीक्षा केंद्र

सरकारी स्कूलों की अनदेखी वित्तविहीन को दी जिम्मेदारी, तीन वर्ष पहले मान्यता पाने वाले बने परीक्षा केंद्र