Download Uptetnews App

ऑनलाइन परीक्षा के साथ ऑफलाइन भी, इविवि प्रशासन ने छात्रों की चार प्रमुख मांगें मानीं, कुलपति ने भंग की आगामी सत्र के लिए प्रवेश परीक्षा कमेटी

ऑनलाइन परीक्षा के साथ ऑफलाइन भी, इविवि प्रशासन ने छात्रों की चार प्रमुख मांगें मानीं, कुलपति ने भंग की आगामी सत्र के लिए प्रवेश परीक्षा कमेटी

इलाहाबाद : छात्र आंदोलन के बाद इलाहाबाद विश्वविद्यालय प्रशासन ने छात्रों की प्रमुख चार मांगें स्वीकार कर ली हैं। आगामी सत्र की प्रवेश परीक्षा के लिए ऑनलाइन के साथ ऑफलाइन का विकल्प भी दिया जाएगा। कुलसचिव और वित्तअधिकारी के स्थाई पद के लिए जल्द ही विज्ञापन जारी कर दिया जाएगा। इसके अलावा स्नातक कक्षाओं के छात्रों को लाइब्रेरी से किताबें निर्गत की जाएंगी। देर रात हुए निर्णय में आगामी सत्र की प्रवेश परीक्षा के लिए बनाई गई कमेटी को भंग कर दिया गया है। 1तीन दिनों के बाद इलाहाबाद विश्वविद्यालय परिसर सोमवार को खुल रहा है। विश्वविद्यालय प्रशासन किसी भी अनहोनी से बचने के लिए छात्रों की सभी मांगों पर गंभीरता से विचार कर रहा है। यही कारण है कि चार प्रमुख मांगें मान ली गई हैं। जहां तक कुलसचिव की नियुक्ति का सवाल है तो इस पद के लिए विज्ञापन छ: माह पहले निकल चुका है। इतनी अवधि बीत जाने के बाद इसे पुन: विज्ञापित किया जाएगा। जिन्होंने उपरोक्त पदों के लिए आवेदन कर लिया है, उन्हें दोबारा आवेदन की आवश्यकता नहीं पड़ेगी। इसी प्रकार पुस्तकालय से स्नातक कक्षाओं के छात्रों की किताबों को निर्गत किया जाएगा। इसके लिए छात्रों से कॉशन मनी ली जाएगी। कुल सचिव प्रो. एनके शुक्ल ने बताया कि प्रवेश परीक्षा के लिए बनाई गई कमेटी को भंग कर दिया गया है। इसके अतिरिक्त छात्रों की अन्य मांगों के लिए कमेटी बना दी 
गई है। कमेटी 15 फरवरी को रिपोर्ट देगी। इन मांगों में फीस जमा कर चुके छात्रों के लिए हास्टल सुविधा प्रदान करना, जो छात्रवास चाहे उसे व्यवस्था की जाए, कक्षाएं नियमित रूप से चलती रहें, छात्रवासों में गुणवत्तापूर्ण व सब्सिडी युक्त मेस की व्यवस्था, परिसर में मारपीट करने वाले अराजक तत्वों पर रोक लगे, बदसलूकी और छेड़छाड़ की घटनाओं पर रोक लगे, कैंपस में छात्रओं के लिए पर्याप्त वाशरूम की व्यवस्था हो, कैंटीन में गुणवत्तापूर्ण व सब्सिडी युक्त भोजन मिले व जरूरतमंद छात्रों को नियमित छात्रवृत्ति का प्रबंध आवश्यक है।1जुटे सभी विश्वविद्यालयों के प्रतिनिधि : छात्र आंदोलन को धार देने के लिए रविवार को छात्रसंघ भवन पर इलाहाबाद विश्वविद्यालय और कैंपस से जुड़े महाविद्यालयों के छात्र संघ प्रतिनिधि जुटे। छात्रसंघ अध्यक्ष रोहित मिश्र ने कहा कि छात्र जाबिर रजा के द्वारा शरीर में आग लगा लेने के लिए पूरी तरह से कुलपति जिम्मेदार हैं। घटना की नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए उन्हें इस्तीफा दे देना चाहिए। सोमवार सुबह कैंपस में इलाहाबाद विवि और संघटक महाविद्यालयों के छात्र प्रतिनिधि और छात्र छात्रएं प्रदर्शन करेंगे। सुबह 11 बजे छात्र संघ भवन पर जुटेंगे।1छात्रों ने निकाला कैंडल मार्च : छात्रों पर लाठीचार्ज के विरोध में छात्रों ने रविवार को कैंडल मार्च निकाला। छात्रसंघ भवन पर जुटे छात्रों ने कहा कि जाबिर रजा के मामले में नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए जिम्मेदार लोगों को इस्तीफा दे देना चाहिए। इस विरोध प्रदर्शन में हिमांशु तिवारी, फिरोज अंसारी, अंकित पाल, शक्ति और राज तिवारी आदि शामिल रहे।
टेक्निकल संबंधी न्यूज़ जानने के लिए इस लिंक को क्लिक करें