UPTET 2011 में 90 नम्बर वाला जॉब पायेगा, 115 वाला आज बैठा बाहर

UPTET 2011 में 90 नम्बर वाला जॉब पायेगा, 115 वाला आज बैठा बाहर

बीजेपी ने शिक्षामित्रो का मुद्दा अपने घोषणापत्र में रखा है
जबकि बीएड वालो को भूल गई
मित्रो समायोजन होना बहुत मुश्किल है ट्रेनिंग रद्द हुई नही है हो सकता है इन्हें टेट पास करने का समय दे दिया जाये
बात बीएड वालो की करते है तो उसमे अगर एक विज्ञापन पर भर्ती हुई तो सिर्फ 72825 के 90% पद ही मिलेगे क्योंकि 10% sm कोटा उसमे भी है

जिस प्रकार लोग बीजेपी के अंधभक्त है उसी प्रकार लोग टेट मेरिट के अंधभक्त भी है
लोग कहते थे कि 90 नम्बर वाला जॉब पायेगा लेकिन 115 जनरल वाला आज बाहर बैठा है
 टेट की वैलिडिटी समाप्त हो गई लेकिन लोगो की अंधभक्ति नही बन्द हुई
याचिओ को सरकार बहुत आसानी से नियुक्त नही करेगी क्योंकि 1100 में बाकि 238 का भी नही कर रही
जो लोग नियुक्त हो गए है वह न्यू ऐड की फ़ीस वापसी के लिए रिट पर रिट कर रहे है लेकिन हम चाहते है कि न्यू ऐड पर भी भर्ती हो इसलिए हम ही न्यू ऐड की फ़ीस वापसी पर रोक लगवाये हुए है लेकिन जो जॉब पा गए है वह फ़ीस वापसी पर पूरा जोर लगाये हुए है वह नही चाहते की नए ऐड से भर्ती हो और 72825 लोग जॉब पाये
जब फ़ीस वापसी का जीओ आया तो सिर्फ हमारी टीम ही आगे आकर फ़ीस वापसी पर जस्टिस राजन रॉय की बेंच से फ़ीस वापसी पर स्टे कराया
कोर्ट में जब कोई मुकदमा जाता है तो कोर्ट देखती है कि किसका अहित और अन्याय हुआ है
इसीक्रम में हमने टेट की समयसीमा खत्म होने से पहले एक परमादेश याचिका फ़ाइल की जिसकी अब तक 2 सुनवाई हो चुकी है
और हमने उसमे मांग की है कि नए विज्ञापन की परमीशन अलग से ली गई है और न्यू ऐड की फ़ीस भी अलग से ली गई और पुराने और नए ऐड में कई जिलो में में पदों में चेंज हुआ था
इसलिये और कई अन्य कारण भी है जिससे कह सकते है कि न्यू ऐड अलग है और ओल्ड ऐड अलग है
सबसे बड़ी बात न्यू ऐड किसी कोर्ट से रद्द नही है और ये 16th अमेंडनेंट से है
जोकि मेरी परमादेश की सुनवाई से पहले रद्द नही था
इसलिए हमारे न्यू ऐड पर भी भर्ती की जाये
हमारी प्रेयर को स्वीकार करते हुए यूपी सरकार के स्पेशल स्टेंडिंग काउंसल रवि प्रकाश मेहरोत्रा जी को नोटिस जारी करके उन्हें सुनवाई की डेट पर उपस्तिथ होने को बोला है
सबसे बड़ी बात कि जज साहब ने हमारे मामले को 72825 के सिविल अपील से टैग ना करते हुए अलग से सुनवाई के लिए डेट लगाया है
जोकि सभी न्यू ऐड समर्थको के लिए अच्छा है क्योंकि सिविल अपील की सुनवाई में इतनी भीड़ हो जाती है कि सही से सुनवाई नही हो पाती
मित्रो आप लोग जानते ही है कि जज साहब ने सिविल अपील में अब कोई IA/SLP स्वीकार करने से मना कर दिया है
जिससे कई लोग जो याची नही बन पाये है और जो न्यू ऐड समर्थक है वह गलती से टेट मेरिट के लिए याची बन गए है वह लोग याची बनना चाहते है
क्योंकि सिविल अपील में कोई याची बन नही पायेगा
इसलिए कई लोग हमारी परमादेश जोकि अलग से न्यू ऐड के लिए लगी है जिसकी सुनवाई 27 फरबरी को होनी है उसमे याची बनना चाहते है काफी लोगो के फोन आ रहे है इसलिए हम लोगो ने सोचा है कि जो लोग कहीं याची नही बन पाये है या अकेडमिक समर्थक है या सिर्फ न्यू ऐड में एप्लाई किये है याची बनना चाहते है वह सम्पर्क कर सकते है
वृजेंद्र कश्यप
9897588687
9084373451
जंगबहादुर यादव
9648416213
उपेन्द्र मिश्रा इलाहाबाद
9889542605
अमित नामदेव वेस्ट यूपी
8430172357
सर्वेश यादव अमेठी
9628119980