परिषदीय स्कूलों के विद्यार्थियों को पुस्तकीय ज्ञान के साथ कहानी और नाटक के जरिए सामाजिक सरोकारों से भी जोड़ा जाएगा

 परिषदीय स्कूलों के विद्यार्थियों को पुस्तकीय ज्ञान के साथ कहानी और नाटक के जरिए सामाजिक सरोकारों से भी जोड़ा जाएगा

परिषदीय स्कूलों के विद्यार्थियों को पुस्तकीय ज्ञान के साथ कहानी और नाटक के जरिए सामाजिक सरोकारों से भी जोड़ा जाएगा। इससे पहले शिक्षकों को ऑनलाइन प्रशिक्षण दिया जा रहा है। इसमें कक्षा एक से पांच तक के विद्यार्थियों को मूल्यों, परिवार, समाज व प्रकृति के प्रति समझ विकसित कराने का प्रयास किया जाएगा। दूसरे चरण में अलीगढ़ के शिक्षकों को ट्रेनिंग दी जाएगी। प्रस्तुत है एक रिपोर्ट।


विद्यार्थी स्वयं समाज के किसी ने किसी किरदार को अदा करेंगे इससे उनमें संवेदनाओं का विकास होगा। उनकी गतिविधियों का क्या असर होता है इसकी भी समझ विकसित होगी।

उबैदुर रहमान, प्रोग्राम मैनेजर, ब्लू आर्ब फाउंडेशन।

ट्रेनिंग के बाद शिक्षक अन्य को प्रशिक्षित करेंगे। कार्यक्रम नई शिक्षानीति के क्रियान्वयन के परिप्रेक्ष्य में तैयार किया गया है। बच्चों को शुरू से ही मूल्यो से जोड़ने का प्रयास हो रहा है।

डॉ. विनोद मिश्र, जिला समन्वयक प्रशिक्षण।

  • 200 गुरुजन लेंगे दूसरे चरण का प्रशिक्षण
  • 04 बैच बनाए गए हैं
  • 17 फरवरी तक चलेगा प्रशिक्षण
  • 75 शिक्षक प्रत्येक बैच में हैं
  • 100 शहरी क्षेत्र के शिक्षक पा रहे पहले चरण का प्रशिक्षण

Post a comment

0 Comments