Search Post


Please Like Our Facebook Page
R6

परिषदीय शिक्षकों को सौंपी गई कॉलिंग की जिम्मेदारी, रोजाना एक शिक्षक 100 नंबरों पर करेगा फोन


मथुरा |

कोरोना से बचाव को वैक्सीनेशन पर विशेष जोर दिया जा रहा है। इसमें गति लाने के लिए प्रशासन ने पूरी ताकत लगा दी है। इसमें बेसिक शिक्षा विभाग का सहयोग लिया गया है। शिक्षकों को कॉलिंग करने की बड़ी जिम्मेदारी सौंपी है। तीन लाख से अधिक लोगों को कॉल कर दूसरी डोज लगवाने की अपील करनी है।


जनपद में कोरोना मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। कोरोना से बचाव को वैक्सीनेशन जरूरी है। इसके लिए जो लोग रह गए हैं उनको जागरूक किया जा रहा है कि वह वैक्सीन लगवा लें। जिनको पहली डोज लग गई है उनको दूसरी डोज निर्धारित समय पर लगवाने को कहा जा रहा है। प्रशासन ने इसमें पूरी ताकत झौंक दी है। स्वास्थ्य विभाग कैंप लगवा रहा है। वहीं दूसरी डोज ड्यू वालों को कॉलिंग कर बताना है वह निकट के केन्द्र पर जाकर वैक्सीन लगवा लें। स्वास्थ्य विभाग ने इसके लिए बेसिक शिक्षा विभाग को सूची सौंपी है। जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डॉ. मुनीष पौरूष के अनुसार बीएसए को सूची उपलब्ध करा दी गई है। एक लाख से अधिक के पहली डोज लगना बाकी है। 94 प्रतिशत के पहली डोज एवं दूसरी डोज 52 प्रतिशत के लग चुकी है।


स्वास्थ्य विभाग ने तीन लाख से अधिक लाभार्थियों के नामों की सूची उपलब्ध कराई है। जिनकी कोरोना की दूसरी डोज लगी है जागरूक करना है। इसमें मोबाइल नम्बरों पर कॉलिंग करने के लिए 1200 शिक्षक-शिक्षिकाओं को जिम्मेदारी सौंपी है। प्रतिदिन एक शिक्षक 100 नंबरों पर कॉल करेगा। तीन दिन के अंदर कॉल पूरी हो जाएंगी। अधीनस्थों को इस बारे में निर्देशित किया गया है। राजेश कुमार सिंह, बेसिक शिक्षा अधिकारी

कोरोना वैक्सीनेशन के प्रति लोगों को जागरूक किया जा रहा है। पहली, दूसरी एवं बूस्टर डोज लग रही हैं। अब तक 27 लाख 46 हजार से डोज लग चुकी हैं। पहली डोज 17 लाख 84 हजार 188 को पहली डोज लगी है। नौ लाख 59 हजार 7 सौ 68 को दूसरी डोज लग चुकी है। नये साल में 15 से 18 वर्ष तक के 43 हजार से अधिक बच्चों को वैक्सीन लग चुकी है। सभी केन्द्र प्रभारियों को निर्देशित भी किया गया है।

डॉ. एके वर्मा, सीएमओ

टेक्निकल संबंधी न्यूज़ जानने के लिए इस लिंक को क्लिक करें
Post A Comment
  • Blogger Comment using Blogger
  • Facebook Comment using Facebook
  • Disqus Comment using Disqus

No comments :